काला चना के गुण को औषधीय रूप में भी देखें

Monday, December 21st, 2009


    चने के कई किस्में  आती हैं, काला,पीला,छोटे चने,काबुली,सफेद जो मोटेते है

  • काला चना तथा किशमिश रात को भिगाकर सुबह खाने से औषधीय रूप में गुणकारी तथा पौष्टक होता है।
  • चना भूख से कम खाना चाहिये कारण दस्त लग सकते हैं।
  • सबसे गुणकारी काला चना होता है ।इसे किसी भी रूप में खायें बिना छिलका उतारे।
  • चने की दाल तथा बेसन कम इस्तेमाल करें कारण इनकी गुणवत्ता चने से कम होती है कारण ये छिलका उतार कर बनाया जाता है ।
  • चने का सत्तू लाभदायक होता है कारण छिलके सहित चने का बनता है।
  • छिलका निकाला हुआ चना कब्जकारक होता है।
  • काला चना हमारे शरीर में प्रोटीन की आपूर्ति करता है। एक तरह से इसे प्रोटीन का राजा भी कहा जा सकता है।
  • काला चना हमारे शरीर की गंदगी को बाहर निकालने में पूरी मदद करता है।
  • गैस तथा कीटाणु पैदा होंगे ही नहीं साथ शरीर का तापमान भी सामान्य रखता है काले चने में चूना तत्व पाया जाता हैसाथ ही प्राकृतिक लवण पाया जाता है जो हमें कहीं और से प्राप्त नहीं हो सकता है।
  • ये तत्व खून को साफ रखने में मदद करते हैं साथ ही शरीर का गठन करता है।
  • बच्चाहो या बूढा सबके लिये फायदेमंद है।कहीं बाहर होने पर भूख लगे तो चना खाना फायदे मंद होता है।
  • अधिक परिश्रम करने वालों को अवश्य काला चना छिलके सहित किसी भी रूप में खाना चाहिये।
  • घोड़े की ताकत से तो आप समझ ही सकते हैं कि उसका भोजन चना कितना ताकतवर होता है । कहावत है चना खाओ घोड़े सी ताकत पाओ।
काला चना के गुण को औषधीय रूप में भी देखें5.11015

Tags:

Post a Comment



Redwing Solutions