सिक्स पैक एब्स (sixpack Abs)

Friday, March 19th, 2010

आज के नवयुवकों में सेहत के प्रति खासी जागरूकता सेहतमंद रहने के लिये क्या बॉडी बनाना जरूरी है-

हमने अपने हील एंड हेल्थ साइड के माध्यम से यही बताने की कोशिश की है कि दुनिया का सबसे बडा सुख है निरोगी काया यानि आप स्वस्थ और फिट ,तो सारी खुशियां आपके कदमो में।लेकिन आज के दौर में फिटनेस मंत्र  अब केवल यहीं तक सीमित नहीं रह गया है अब बात बॉडी बिल्डिंग तक पहुंच गई है आपकी बॉडी सिक्स पैक है या एट पैक। आप अपनी बॉडी को मनचाहा शेप जल्द से जल्द दे सकते हैं जिम या फिटनेस सेंटर जाकर कारण ये कम समय में आपके बॉडी को आपका मनचाहा शेप देने का दावा करते हैं।

लोगों में फिट रहने की प्रवृत्ति अब दिन पर दिन बढती जा रही है युवाओं का मानना है कि अब बॉडी फिटनेस पैक्स पर निर्भर करती है वैसे फिटनेस एक्सपर्टस की माने तो  बॉडी बनाना इतना भी मुश्किल नहीं है ।बस जिम या फिटनेस सेंटर मेंजाकर किसी अच्छे एक्सपर्टस की देखरेख में रेगुलर एक्सरसाइस तथा डाइट चार्ट के हिसाब से चल कर इसे आसान बनाया जा सकता है वो भी किसी डॉक्टर या डाइटीशियन द्वारा दिये गये परामर्श के हिसाब से होना चाहिये कारण ये आपकी बॉडी के हिसाब से ही होगा यहां आप अपनी मनमानी नहीं कर सकते वरना इसका नतीजा भी आपको ही भुगतना पडेगा।

वैसे तो पहले के लोग भी बॉडी बनाते थे अखाडे में जाकर और साथ साथ खानपान का भी उतना ही ध्यान रखते थे पर कुछ गिनेचुने लोग ही हुआ करते थे परंतु अब तो हर दूसरा युवक सिक्स या एट पैक बॉडी बनाना चाहता है चाहे वह गांव का हो या शहर का।

वैसे तो देखने सुनने में सिक्स या एट पैक बॉडीअच्छी लगती है परंतु इसके लिये की जाने वाली भारी भरकम कसरत और ली या दी जाने वाली डाइट आप पर भारी भी पड सकती है।

बॉडी बनाने का मतलब सिर्फ सिक्स एब्स ही नहीं है मतलब होता है मांसपेशियों को कसना जिससे ये सुडौल दिखे। इसके लिये खासी मशक्कत करनी पडती है।

इसको बढाने के लिये कार्बोहाइड्रेट तथा  फैट की मात्रा को घटाकर प्रोटीन की मात्रा को बढाई जाती हैताकि मांसपेशियां ठीक तरह से टोन तथा सख्त हो सकें साथ इन्हें शेप में रखने के लिये जिम में तो हैवी एक्सरसाइस करवाइ जाती है।

जिम जाने वाले शौकीनों को जिम ट्रेनर कई तरह के डाइट सप्लीमेंट्स भी देते हैं जिनमें सिंथेटिक पोषक तत्व होते हैं।ये तत्व आपके शरीर को कई तरह से हानि भी पहुंचा सकते हैं।

इन सप्लीमेंट्स में प्रोटीन ,क्रिएटिन, सोडियम तथा कई और हार्मोन्स , इनमें से कई नुकसानदायक भी हो सकते हैं।

एक्सटरनल प्रोटीन लेना यानि शरीर में प्रोटीन की मात्रा जबरदस्ती बढाना इससे किडनी प्रभावित होती है शरीर में इतने हैवी प्रोटीन के जाने से पाचन संस्था का संचालन बिगड़ जाता है किडनियां ठीक तरह से काम नहीं कर पाती हैं जिसकी वजह से प्रोटीन , जोड़ों में जमा होने लगते हैंजोड़ों के दर्द की बीमारी हो सकती हैं। जिन्हें गुड प्रोटीन कहते हैं वे हमारेशरीर के लिये अच्छे होते हैंजैसे अंकुरित अनाज ,एग, डेयरी प्रोडेक्ट्स,सोया ,चिकन, फिश

हार्मोन-शरीर में बाहरी तौर पर दिये जाने वाले हार्मोन काफी खतरनाक हो सकते हैं शरीर की पाचन संस्था को डिसटर्ब भी करता है साथ दिमाक पर भी इसका अच्छा असर नहीं पडता।

सोडियम-इसे सप्लीमेंट्स के रूप में लेना ठीक नहीं है इससे हाथ पैर में सूजन आती है तथा रक्तचाप पर इसका बुरा असर पडता है।

अच्छी बॉडी बनाने के लिये कितना समय लगेगा ये एक्सपर्टस का कहना है कि पहले ये देखने वाली बात हैकिआप के बॉडी पर फैट कितना है,यदि अधिक है तो पहले उसे घटाया जायेगा जिसके लिये जिम में एक्सरसाइस कराई जाती  है ये वे व्यायाम होते हैं जो फैट बर्न करता है यदि आप नियमित व्यायाम तथा खानपान को सही तरीके से अपनी आदत में ढाल लेंतो, एक बार आपकी बॉडी सही शेप में आजाये फिर आप नियमित व्यायाम कर इसे खुद भी मेंटेन कर सकते हैं- जैसे स्वीमिंग, साइकलिंग,जॉगिंग या फिर बॉक्सिंग इनको भी शामिल करके।

यदि आपने बॉडी बनाने की सोच ही ली है तो-

बेहतरीन या मन पसंद बॉडी बनाने के लिये जरूरत है एक्सरसाइस, हेल्दी लाइफ स्टाइल और हेल्दी डाइट मेंनेजमेंट की । इन सबके साथ आपको पूरी इमानदारी निभानी पडेगी।

एक्सरसाइस-(व्यायाम)में आपका लाइफस्टाइल भी आता है सुबह जल्दी उठकर व्याय़ाम शुरू करें ये सारा दिन आपको तरोताजा रखेगी। रोजाना कम से कम एक घंटा व्यायाम करना जरूरी है जिसमें फैट बर्न् करने के लिये वेटलिफ्टिंग ,सिटअप,साइकलिंग, जॉगिग,वॉक,तथा स्विमिंग।इसके लिये किसी एक्सपर्ट की गाइडेंस में ही चलें मनमानी एकसरसाइस न करें।

-डाइट कैसी लें अच्छी बॉडी बनानी हो या सिक्स पैक एब्स बनाने के लिये काफी वर्कआउट करना पडता है इसलिये डाइट पर विषेश ध्यान देना जरूरी है। कुछ लोग फैट को कम करने के लिये अपनी डाइट से फैट को पूरी तरह हटा देते हैं मगर फैट के लिये कुछ चीजें जो जरूरी है वह तो आपको लेना ही पडता है वरना इसकी बिल्कुल कमी से हर्ट प्रोब्लम हो सकती है इसलिये –ऑलिव ऑयल,फिश,नट्स जैसी कुछ चीजे लेते रहें।

-सुबह का नाश्ता अति आवश्यक है इसे बिल्कुल स्किप न करें बल्कि नाश्ता हैवी करें लंच उससे हल्का डिनर बिल्कुल हल्का वो कहते हैं कि सुबह का नाश्ता राजा की तरह करें,लंच प्रजा की तरह करें,डिनर गरीब की तरह यानि बल्कुल हल्का।

पूरे दिन में जितना भी आप खाते है उसे पांच बार में खाना चाहिये।

-दिन में कई बार थोडा-थोडा खायें ।इससे ब्लड शुगर भी नहीं बढता एक्सरसाइस के लिये स्टेमना बढती है। खाने का समय तथा चीजों को कई हिस्सों में बांटे थोडा- थोडा करके खायें एक बार में ही अधिक न खालें इससे आपकी पाचन क्रिया पर बुरा असर पडता है।

-बॉडी बनाने के लिये डाइट में जरूरी है फाइबर युक्त भोजन तथा प्रोटीन की मात्रा जैसे मौसमी  फल अधिक से अधिक खायें।

-जंक फूड ,ब्रेड,पास्ता को एवाइड करें।

-सब्जियों से स्टार्च घटाकर खायें कैसे-सब्जियो को काटकर ज्यादा गर्म पानी में डाल कर कुछ देर के लिये छोड दें।

- प्रोटीन डाइट लें जैसे अण्डा,पनीर दूध दही मछली चिकन  चिकन सूप अपना मेटाबॉलिज्म बढाने के लिये।

-ज्यादा एक्सरसाइस से डिहाइड्रेशन भी हो सकता है इसके लिये दिन भर में कम से कम दस ग्लास पानी पियें।पानी की उचित मात्रा हमारे शरीर के लिये अतिआवश्यक है कारण पानी हमारे शरीर का मेनेजमेंट करता है। औसतन एक व्यक्ति के वजन के हिसाब से देखाजाय तो प्रति20. किलोवजन के हिसाब से एकलीटर पानी पीना चाहिये यानि पचास किलो पर ढाई लीटर पानी पीना चाहिये ।

-बॉडी बनाने के लिये अलकोहल का सेवन बिल्कुल न करें कारण सारी मेहनत(एक्सरसाइस) पर पानी फेर सकता है क्योंकि यह पेट को फुलाता है वर्कआउट करते समय प्रोब्लम भी हो सकती है। आपका पेट व वेट दोनों बढ़ने लगेगा।

घर पर बना सकते हैं बॉडी (सिक्स पैक)

क्या आप भी उन युवाओं में से हैं जो सिक्स पैक बॉडी बनाना तो चाहते हैं पर जिम जाने का समय नहीं है या पैसा खर्च करना नहीं चाहते हैं। तो निराश मत होईये उसका भी उपाय है-

यदि आप घर पर ही बॉडी बनाने के लिये एक्सरसाइस करना चाहते है तो आपको भी कुछ जानकारियों की जरूरत पडेगी।

जिम एक्सपर्टस् का कहना होता है कि (सिक्स पैक) बॉडी बनाने के लिये आपको अपनी लोअऱ बैक को पहले मजबूत करना होगा व्यायाम तथा खानपान पर विषेश ध्यान तथा नियंत्रण करना बेहद जरूरी है ।

सबसे पहले खानपान परध्यान दें-आपको भोजन में फैट कम तथा कार्बोहाइड्रेट व प्रोटीन समुचित मात्रा में लेनी होगी ।कार्बोहाइड्रेट शरीर को उर्जा देता है तथा प्रोटीन मसल टिशूज को मजबूत बनाता है साथ एक्सरसाइस में हुई टूट फूट को जोडता है।

-कार्बोहाइड्रेट जो ताजेमौसमी फलों तथा सब्जियों में पाये जाते हैंजो हमारे शरीर के लिये अच्छेहोते हैं।साबुत अनाज में पाये जाने वाले कार्बोहाइड्रेट जो शरीर में फैट नहीं बढाते  परंतु पर्याप्त उर्जा अवश्य  देते हैं । रात के खाने में चावल मैदा,जहां तक हो सके न खायें।हल्का भोजन ही करें।

-प्रोटीन- अंकुरित अनाज ,डेरी प्रोडेक्ट,सोया,चिकन ,तथा फिश से मिलता है। प्रोटीन में गुड प्रोटीन कहलाता है

-हाई सोडियम वाले पदार्थों से बचें जैसे ज्यादा नमक या ज्यादा नमक वाले खाद्य पदार्थ।

जिन ट्रेनरों का कहना हैकि यदि आप जिम नहीं भी जा सकते तो अपने घर परही फर्श पर दरी या चादर बिछा कर व्यायाम कर सकते हैं।बॉडी बनाने के कुछ आसान तरीके जिन्हे घर पर भी आजमाये जा सकते हैं।

-पहले के लोग कौनसा जिम में जाते थे फिर भी बॉडी तो बनाते ही थे तो आज क्यों नहीं, कोशिश तो करें-

- फर्श पर लेट कर दोनों पैर जोडकर रखे अब पैरों को उपर उठाएं फिर पेट की मसल्स को अंदर खींचते हुए कंधो को उपर उठाएं और  कुछ समय इसी तरह सांस रोके  रहें फिर सांस छोडकर पहले वाली स्थिति में आ जायें।

- लेट करदोनों हाथों को साइड में रखें पैरों के पंजों को जोडकर रखें अब घुटनों को मोडकर सीने तक लायें ,पेट की मसल्स को अंदर करते हुए कूल्ह को फर्श से उठानें की कोशिश करें फिर पैरों को उपर सीधा खडा कर दें। इसी तरह पंद्रह –सोलह बार करें।

-जमीन पर लेटकर पैरों को उपर उठालें दोनों हाथों को सर के नीचे रखें,पेट की मसल्स को अंदर खींचते हुए कंधो को उठाएंऔर इतना उठाएं कि आप की बॉडी मुडकर आधी गोल हो जाये अब सांस को भीतर खींचते हुए पहले की स्थिति में वापस आ जायें।

-फर्श पर लेटकर घुटनों को मोडें पाव नीचे ही टिका रहने दें अब अपने हाथों को  कान के पीछे लाकर सर को सपोर्ट दें अब लोअर बेक को उठाते हुए धीरे धीरे बैठने की कोशिश करें इस तरह बारह पंद्रह बार करें।

-फर्शपर लेटकर दोनों हाथों को सर के पीछे ले जायें फिर घुटनों को मोडते हुऐ थोडा उपर उठाएं अब पहले दाएं घुटने को बांई कोहनी और फिर बांए घुटनें को दांई कुहनी से टच करने की कोशिश करें।

-जमीन पर लेटकर अपने घुटनों को उपर उटाने की कोशिश करें परंतु घुटने अधिक न मोडे जितना उठा सकते हैं उठाएं फिर छोडदें इस तरह बारह- पंद्रह बार दोहराएं।

-आप किसी स्टूल या मेज पर बैठकर थोडा पीछे झुकें चाहें तो हाथ से स्टूल को पकड़ कर रखें अब घुटने मोडकर उपर उठाएं फिर अपने कंधों को झुकाकर घुटनों की तरफ लाएं इस तरह आपकी बॉडी की
-पार्क या घर पर ही किसी रॉड पर लटक करघुटनों को उपर उठाएं अब बॉडी को एक बार दाएं मोडें फिर एक बार बांए इसतरह खुद को ट्विस्ट करें फिर घुटनों को उपर उठाने की कोशिश करें।

एक्सरसाइस करने से पहले शरीर को बिल्कुल ढीला तथा सीधा रखें फिर  एक्सरसाइस शुरू करें।

बिना डॉक्टरी सलाह के किसी ताकत बढाने वाली दवाओं का सेवन न करें।

समय की मांग है हष्ट-पुष्ट स्वस्थ शरीर की यानि (सिक्स पैक बॉडी की चाहे घर पर बनाएंया जिम वो आपको सोचना व समझना है। कारण बॉडी से पर्सनालिटी में निखार आता है साथ ही भीतर से आत्मविश्वास बढ़ता है और इसी आत्मविश्वास से साकारात्मक सोच को बढावा मिलता है।पहले की अपेक्षा आज के युवक युवतियाँ अपने स्वास्थ के प्रति काफी सचेत हो रहे हैं।फिटनेस-लुक एण्ड फील को लेकर काफी पोजेटिव हैं और हो रहे हैं। आज की कुछ फिल्में है जिनसे इन्हें बॉडी बनाने के लिये प्रोत्साहन मिल रहा है अब चाहे वह युवक हो या युवतियां।मजबूत शरीर को सिक्स पैक नाम दिया जा रहा हैजो आज सबके दिलों पर छाया हुआ है।

VN:F [1.7.8_1020]
Rating: 7.3/10 (72 votes cast)
सिक्स पैक एब्स (sixpack Abs)7.31072
One Response to “सिक्स पैक एब्स (sixpack Abs)”
  1. manoj says:

    friends

    UN:F [1.7.8_1020]
    Rating: 3.5/5 (8 votes cast)

Post a Comment



Redwing Solutions